अमृतवाणी

राम शरणम्

श्री राम शरणम् का अंतिम उद्देश्य संक्षेप में और स्पष्ट रूप से इसमें अभिव्यक्त किया गया है:

  • वृद्धि आस्तिक भाव की, शुभ मंगल संचार
  • अभेउ उड़ाई साद धरम का, राम नाम विस्तार.